पालिका ने हाशिये पर लाया संगठन को!

संगठन के निर्देशों को दरकिनार कर पालिका का सम्मेलन आज!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। भाजपा शासित नगर पालिका परिषद की बेढंगी चाल का नायाब नमूना शुक्रवार को आहूत पालिका का साधारण सम्मेलन दिखायी दे रहा रहा है। भाजपा संगठन के द्वारा दिये गये निर्देशों को धता बताते हुए संगठन के द्वारा पार्षदों से प्राप्त जनहित के प्रस्तावों को दरकिनार कर पूर्व निर्धारित 23 बिन्दुओं पर ही शुक्रवार को परिषद का सम्मेलन आहूत किया गया है।

भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि 03 जनवरी को आहूत किये जाने वाले पालिका के साधारण सम्मेलन की तिथि पालिका परिषद के अधिनियम के हिसाब से सूचना दिये जाने के बाद आठ दिन का अंतराल पूरा न होने पर 05 जनवरी तक बढ़ा दी गयी थी।

सूत्रों ने आगे बताया कि इसी बीच भाजपा संगठन के पास भाजपा पार्षदों के द्वारा जनहित के प्रस्तावों की फेहरिस्त सौंपी गयी। इसके बाद संगठन के द्वारा भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के कर्णधारों को निर्देशित किया गया था कि संगठन को प्राप्त प्रस्तावों में से जनहित के प्रस्ताव जोड़कर सम्मेलन को मकर संक्राति के आसपास आहूत किया जाये।

इसके साथ ही सूत्रों ने बताया कि संगठन के द्वारा पालिका को यह कहा गया था कि कलेक्टर बंग्ले से एसपी बंग्ले तक के मार्ग पर डामरीकरण के लिये निर्धारित अवधि पूरी हो चुकी है। चूंकि यह सड़क अभी बहुत ही अच्छी स्थिति में है अतः इस सड़क पर कम खर्च में ही पतली डामर की लेयर बिछवा दी जाये।

सूत्रों ने आगे बताया कि पालिका के कर्णधारों ने संगठन को यह कहकर साध लिया कि अभी पालिका के पास तकनीकि अमला नहीं है। चूंकि डामर की लेयर बिछाने के लिये एस्टीमेट बनाना पड़ेगा और उसमें समय लग जायेगा, इसलिये परिषद का यह सम्मलेन हो जाये उसके बाद फरवरी के प्रथम सप्ताह में अन्य जनहित के कामों के लिये पृथक से सम्मेलन को आहूत कर लिया जायेगा।

इसी तरह सूत्रों ने आश्चर्य प्रकट करते हुए कहा कि नगर पालिका के द्वारा 62 करोड़ 55 लाख रूपये की जलावर्धन योजना में शहर के अंदर पाईप लाईन बिछाने का काम बेतरतीब तरीके से किया जा रहा है। अगर पालिका के पास तकनीकि अमला नहीं है तो पाईप लाईन बिछाने का काम बिना तकनीकि अमले के कैसे किया जा रहा है? या तो एस्टीमेट बनाने के मामले में पालिका के कर्णधार गलत बयानी कर रहे हैं या फिर पाईप लाईन बिछाने के मामले में!

सूत्रों ने कहा कि संगठन को प्रेसीडेंट इन कौंसिल के सदस्यों के द्वारा यह भी बताया गया है कि नवीन जलावर्धन योजना के ठेकेदार को दिये गये कार्यादेश में बढ़ायी गयी समयावधि समाप्त हो चुकी है और पीआईसी के द्वारा इसे बढ़ाया नहीं गया है। अगर ऐसा है तो ठेकेदार को कार्यादेश में दी गयी समयावधि के समाप्त होने के बाद ठेकेदार किस हैसियत से काम कर रहा है?

इसके साथ ही सूत्रों ने कहा कि साधारण सम्मेलन के एजेंडे मंें तेरहवीं कण्डिका में उल्लेखित नाला किसका हित साधने की गरज से बनाने का ताना-बाना बुना जा रहा है? जबकि इसकी बजाय एकता कॉलोनी से निकलने वाले नाले का गहरीकरण किया जाकर उसे पक्के नाले में तब्दील किया जाना ज्यादा आवश्यक था ताकि एकता कॉलोनी के रहवासियों को बरसात में पानी भरने की समस्या से निजात मिल पाती।



26 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *