बच्चों और बुजुर्गों को चाहिए खास देखभाल

वैसे तो सर्दियों के मौसम में हर उम्र के लोगों को देखभाल की आवश्यकता होती है, लेकिन बच्चों और बुजुर्गों को ऐसे मौसम में खास देखभाल की आवश्यकता होती है क्योंकि उनकी प्रतिरोधी क्षमता कमजोर होती है।

सर्दियों में बच्चों का ख्याल रखें क्योंकि छोटे बच्चे बता भी नहीं सकते कि उन्हें ठंड लग रही है, आइये जाने बच्चों की देखभाल के टिप्स:

अपने शिशु का टीकाकरण समय पर करायें, जिससे वो कई संक्रामक बीमारियों के खतरे से दूर रहे। शिशु के सर व पैर हमेशा ढक कर रखे। बच्चों को स्कूल में साफ सफाई रखने को प्रेरित करे। बच्चों में ज्यादा दिन तक रहने वाला सर्दी जुकाम नीमोनिया भी हो सकता है।

नवजात शिशु की रोग प्रतिरोधी क्षमता बनाये रखने के लिए उसे स्तनपान कराये। स्कूल जाने वाले बच्चों को पोषक आहार दें और उन्हें मुंह पर रूमाल रखकर छींकने व खांसने की आदत डाले। बाहर ज्यादा ठंड होने पर बच्चों को इनडोर गेम्स खेलने को प्रेरित करे।

बच्चों के अलावा बुजुर्गों को भी इस मौसम में ज्यादा देखभाल की आवश्यकता होती है। ऐसे में सबसे ज्यादा डर उच्च रक्तचाप या ब्लड प्रेशर के मरीजों को रहता है। आइये जानें अधिक उम्र में कैसे रखें अपना ख्याल:

समय-समय पर ब्लड प्रेशर नापते रहें और ब्लड प्रेशर नियंत्रित रखे। सर्दियों में ब्लड प्रेशर बढ़ने का एक कारण होता है रक्त वाहिकाओं का संकुचित हो जाना, जिससे हृदय पर दबाव पड़ता है। अपने चिकित्सक से समय-समय पर मिलते रहे। रोज व्यायाम करे। खाने में तेल, घी कम से कम खाये। सरदर्द, घबराहट, आंखों में भारीपन महसूस होने पर चिकित्सक से मिले। चाय, काफी, धूम्रपान व शराब का सेवन ना करे। पोषक आहार लें।

थोड़ा व्यायाम भी जरूरी है

वैसे तो सर्दियों का मौसम आलस भरा होता है। लेकिन ऐसे मौसम में थोड़ा व्यायाम करके आप अपनी कार्यक्षमता को भी बढ़ा सकते है। आइये जानें सर्दियों में व्यायाम के फायदे

बढ़ायें कार्यक्षमता

अगर आप सर्दियों में आलस का अनुभव करते हैं, तो आपको सुबह व्यायाम करना चाहिए। ऐसे व्यायाम करने से आपका तनाव भी कम होगा और आप दिनभर तरोताजा महसूस करेंगे।

रक्तसंचार रहे ठीक

व्यायाम करने से शरीर का रक्तसंचार ठीक रहता है। ऐसे व्यायाम का चयन करें जिससे आपकी हृदयगति ठीक रहे। हल्के फुल्के व्यायाम से लीवर को अधिक रक्त पहुंचता है और शरीर के टाकिसन निकल जाती है।

रोग प्रतिरोधी क्षमता का विकास

स्वस्थ रहने के लिए रोग प्रतिरोधी क्षमता का ठीक प्रकार से काम करना बहुत जरूरी होता है। व्यायाम करने से पूरे शरीर में रक्तसंचार ठीक रहता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है, जिससे आपको सर्दी जुकाम नहीं होता।

तनाव के स्तर में कमी

व्यायाम का लाभ हमें शारीरिक ही नहीं बलिक मानसिक तौर पर भी मिलता है। व्यायाम करने से आप अधिक ऊजार्वान महसूस करते हैं और आपके तनाव स्तर में कमी होती है। सर्दियों में अगर आप कोई नया व्यायाम शुरू कर रहे हैं, तो बहुत देर तक व्यायाम ना करे।

(साई फीचर्स)


नोट :ये नुस्‍के आजमाने के पहले जानकार चिकित्‍सक से एक बार मशविरा अवश्‍य कर लें।

0 Views

Related News

जिले में ग्राम पंचायतों के कार्यक्रमों में बढ़ रही अश्लीलता! (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। जिले में ग्राम पंचायतों के घोषित.
(शरद खरे) जिला मुख्यालय में सड़कों की चौड़ाई क्या होना चाहिये और सड़कों की चौड़ाई वास्तव में क्या है? इस.
मनमाने तरीके से हो रही टेस्टिंग, नहीं हो रहा नियमों का पालन! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। लोक निर्माण विभाग में.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। नगर पालिका में चुनी हुई परिषद के कुछ प्रतिनिधियों के द्वारा मुख्य नगर पालिका अधिकारी के.
(खेल ब्यूरो) सिवनी (साई)। भारतीय जनता पार्टी के सक्रय एवं जुझारू कार्यकर्ता तथा पूर्व पार्षद रहे संजय खण्डाईत अब भाजपा.
मंगलवार से ठण्ड पर लग सकता है विराम! (महेश रावलानी) सिवनी (साई)। उत्तर भारत से आने वालीं सर्द हवाओं की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *