पीएचई विभाग की उदासीनता चरम पर

 

 

ग्रामीणों ने चंदा कर आरंभ करायी नलजल योजना

(ब्यूरो कार्यालय)

बादलपार (साई)। भाजपा के शासनकाल में जिले के प्रभारी मंत्री प्रदेश के स्वास्थ्य राज्य मंत्री शरद जैन थे तब स्वास्थ्य विभाग की दुर्दशा किसी से छुपी नहीं थी, अब जबकि जिले के प्रभारी मंत्री प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री हैं तब पीएचई विभाग के अधिकारियों की उदासीनता चरम पर है।

जिले में कम से कम एक सैकड़ा से भी ज्यादा गाँवों में इन दिनों नल-जल योजना बंद पड़ी है जिसके कारण ग्रामीणों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। कर्मचारियों की लापरवाही का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। मोहगाँव तीतरी गाँव में विभाग द्वारा सूखा घोषित कर दिये गये बोर की मोटर के लिये ग्रामीणों ने चंदा करके नल-जल योजना की शुरूआत की जिसके कारण अब स्कूली छात्रों और ग्रामीणों को पानी की समस्या का सामना शायद नहीं करना पड़ेगा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार माध्यमिक शाला मोहगाँव तीतरी में विगत कई दिनों से पेयजल हेतु छात्रों व ग्रामीणों को गंभीर पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा था। शासन के द्वारा स्कूल कंपाउंड में नल-जल हेतु एक साल पहले बोर कर दिया गया था लेकिन बार – बार अनुरोध के बावजूद मोटर नहीं लगायी गयी थी। जिम्मेदारों ने बोर को सूखा घोषित कर दिया था।

ग्रामीणों ने किया चंदा : ग्राम पंचायत के उप सरपंच अब्दुल वासिद खान और ग्रामीणों ने मिलकर जन सहयोग से 12 हजार रुपये एकत्रित करके ग्राम पंचायत को सौंपे। इसके अतिरिक्त ग्राम पंचायत ने खर्च उठा कर विद्युत मोटर खरीदी और फिर तीन हॉर्स पॉवर की मोटर बोर में डाली। इसके चलते अब गाँव में पानी की समस्या से लोगों को दो चार नहीं होना पड़ रहा है।