शेयर, इंश्योरेंस से लेकर बैंक जमा तक, यूं पड़े हैं 70 हजार करोड़ रुपये

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। आपको यह जानकर जानकर हैरानी होगी कि विभिन्न संस्थाओं में 70 हजार करोड़ रुपये लावारिस पड़े हैं। इतनी बड़ी रकम का कोई दावेदार ही नहीं है। इसकी वजह यह है कि कई लोग शेयर खरीदकर, पोस्ट ऑफिस स्कीम्स या बैंक खातों में जमा कर या फिर इंश्योरेंस खरीद कर भूल गए।

दूसरी वजह यह है कि कई लोगों ने पैसे जमा करने शुरू किए, लेकिन मच्योरिटी तक निवेश बरकरार नहीं रख पाए। इसी तरह, कुछ लोगों की मौत हो गई और उनके परिवारों को जमा रकम की जानकारी ही नहीं है। इन परिस्थितियों में ही अलग-अलग जगहों पर जमा रकम को कोई दावेदार सामने ही नहीं आ रहा है। आइए जानते हैं, कहां, कितनी रकम लावारिस पड़ी है…

एक कंपनी में 1,500 करोड़

भारतीयों ने सिर्फ एक कंपनी, पीयरलेस जनरल फाइनैंस ऐंड इन्वेस्टमेंट में पैसे निवेश कर भूल गए। 15 साल में उनके निवेश की रकम बढ़कर 1,514 करोड़ रुपये हो चुकी है। 15 साल पहले कंपनी ने छोटे निवेशकों को डिपॉजिट सर्टिफिकेट्स बांटकर 1.49 करोड़ रुपये जुटाए थे। तब 51% डिपॉजिट सर्टिफिकेट्स 2,000 रुपये या इससे कम भाव पर जारी किए गए थे। कंपनी मामलों के मंत्रालय ने इसी सप्ताह बताया कि यह रकम अब सरकार के अधीन इन्वेस्टर एजुकेशन ऐंड प्रॉटेक्शन फंड (IEPF) में ट्रांसफर कर दी गई है।

शेयर और लाभांश के 25,000 करोड़

आईईपीएफ में 7 वर्षों में लावारिस पड़ी कंपनियों के घोषित लाभांश और शेयर ट्रांसफर किए गए हैं। इस फंड में कुल 4,138 करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं। इसके अलावा, यहां कंपनियों ने 21,232.15 करोड़ रुपये मूल्य के 65.02 करोड़ शेयर भी जमा हैं।

इंश्योरेंस के 16,000 करोड़

24 जीवन बीमा कंपनियों के पास बीमाधारकों के 16,000 करोड़ रुपये लावारिस पड़े हैं। इसका 70% यानी कुल 10,509 करोड़ रुपये सिर्फ एलआईसी के बीमाधारकों के है। यह आंकड़ा 31 मार्च, 2018 का ही है। वहीं, 24 गैर-जीवन बीमा कंपनियों के पास पड़े 848 करोड़ रुपयों का कोई दावेदार नहीं है।

बैंकों के पास 20,000 करोड़

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के डिपॉजिटर एजुकेशन ऐंड अवेयरनेस फंड (डीईए फंड) उन बैंक खातों पर कब्जा कर लेती है जिन पर 10 वर्षों तक कोई दावा नहीं करता। जून 2018 तक ऐसे लावारिस पड़े बैंक अकाउंट्स से डीईए फंड को 19,567 करोड़ रुपये मिल गए थे।

पोस्ट ऑफिसों में 9,000 करोड़

देश के विभिन्न डाक घरों में जमा 9,395 करोड़ रुपये के दावेदार सामने नहीं आ रहे हैं। लोगों ने डाक घर योजना के तहत पैसे जमा किए, लेकिन मच्योरिटी पीरियड के बाद भी कई दावेदार नहीं आए। कई ऐसे भी लोग हैं जिन्होंने छोटी-छोटी बचत योजनाओं में पैसे जमा कराने तो शुरू किए, लेकिन कुछ दिनों पर जमा कराना बंद कर दिया। वे लोग अपनी जमा रकम वापस लेने भी नहीं आए।

कुल 70,000 करोड़

ऊपर की कुल रकम को जोड़ा जाए तो यह 70,000 करोड़ रुपये पर पहुंचती है। इन निवेशों में ज्यादातर लावारिस पड़े हैं क्योंकि कई निवेशकों की मौत हो चुकी है और उनके परिवार को इसकी जानकारी नहीं है या फिर वे अपना दावा साबित ही नहीं कर पा रहे हैं। अगर आपका भी पैसा फंसा है तो अपनी दावेदारी साबित कर इसे निकाल सकते हैं।

18 thoughts on “शेयर, इंश्योरेंस से लेकर बैंक जमा तक, यूं पड़े हैं 70 हजार करोड़ रुपये

  1. Nice blog here! Also your website loads up fast!

    What host are you using? Can I get your affiliate link to your host?
    I wish my site loaded up as fast as yours lol http://kennedyjm35.bling.fr/2020/juillet/31/149488/make-your-amateur-athletes-look-like-professional-with-custo.html http://whitley42.ek1.pl/2020/07/31/developing-workforce-killed/ https://Liviacj.Seesaa.net/article/476601985.html

    Also visit my web blog wholesale mlb jerseys from China

  2. Great blog right here! Also your website rather a lot up
    very fast! What host are you the use of? Can I am getting your associate link on your host?

    I want my web site loaded up as fast as yours lol

  3. Pingback: sex

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *