चोरी के पत्थरों से हो रहा चेक डेम का निर्माण

 

 

ठेकेदार के द्वारा बिना अनुमति लिये जा रहे सुकला जलाशय के पत्थर!

(टूप सिंह पटले)

अरी (साई)। अरी क्षेत्र में गोकलपुर के मध्य नदी नालों में चेक डेम बनाये जाने के लिये ठेकेदार के द्वारा चोरी के पत्थरों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस मामले में सिंचाई विभाग के अधिकारी और जल उपभोक्ता संथा पूरी तरह निष्क्रिय ही दिख रही है। हाल ही में एक ट्रैक्टर ट्रॉली में चोरी के परिवहन का मामला भी प्रकाश में आया है।

बताया जाता है कि सुकला डेम के पिचिंग के पत्थरों को चेक डेम का निर्माण कराने वाले ठेकेदार नजीर खान के द्वारा बिना अनुमति के ही निकाला जा रहा है। इस मामले में शिकायत करने के बाद भी सिंचाई विभाग के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है, वहीं जल उपभोक्ता संथा भी मूकदर्शक बनी बैठी दिख रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार को जल उपभोक्ता संथा के सदस्य रमेश पटले के द्वारा ठेकेदार के कारिंदे को एक ट्रॉली पत्थर ले जाते हुए पकड़ा गया था। इसकी जानकारी उनके द्वारा सिंचाई विभाग के कर्मचारी होमन सिंह बिसेन को दी गयी। श्री बिसेन के द्वारा इसकी जानकारी उपयंत्री हेमंत डोंगरे को दे दी गयी।

बताया जाता है कि इसकी जानकारी मिलने के बाद सिंचाई विभाग के आला अधिकारियों के निर्देश पर मामले को रफा दफा कर दिया गया है।

सिंचाई विभाग के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि सिंचाई विभाग में चौकीदार रहे नजीर खान से विभाग के उपयंत्री लक्ष्मण श्रीवास्तव के द्वारा तालाबों के काम बहुतायत में कराये गये हैं। लगभग एक साल पहले नजीर खान के द्वारा नौकरी से त्यागपत्र दिया जाकर ठेकेदारी आरंभ की गयी थी।

सूत्रों का कहना है कि नजीर खान के द्वारा सुकला डेम के पिचिंग के पत्थरों को यहाँ से चुपचाप ले जाया जा रहा है। इसका प्रमाण यह है कि इनमें से दो ट्रॉली पत्थर गोकलपुर की सरहद पर नारबोद ढोढी शिवमेढ़ के पास अभी भी पड़े हुए हैं। इसके बाद तीसरी ट्रॉली में चोरी के पत्थर का परिवहन करते हुए ग्रामीणों के द्वारा पकड़ा गया है।

मुझे होमन सिह बिसेन द्वारा जानकारी दी गयी है कि ट्रैक्टर पत्थर खाली करा दिये गये. नजीर खान के कर्मचारी लालचंद राहंगडाले के द्वारा बाकी के पत्थर वापस करने की बात कही गयी है.

हेमंत डोगरे,

उपयंत्री,

जल उपभोक्ता संस्था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *