कोचिंग क्लासेस़ को दे दें शालाओं का दर्जा!

 

(शरद खरे)

सिवनी जिले में न जाने कितने निज़ि शिक्षण संस्थान अस्तित्व में हैं। इन संस्थानों में मोटी फीस लेकर, बच्चों को शिक्षा-दीक्षा दी जा रही है। एक समय था जब निज़ि शिक्षण संस्थान गिनती के थे और इनमें से अधिकांश का संचालन मिशनरी द्वारा किया जाता था। मिशनरी को अनुदान मिलता था, इसलिये इसमें पढ़ने वाले विद्यार्थियों को अधिक फीस नहीं देना पड़ता था। आज शिक्षा को व्यवसाय बना लिया गया है और शासन-प्रशासन मूक दर्शक बना बैठा है।

शालाओं में गणवेश, डोनेशन, किताबों आदि की मारामारी से आम अभिभावक त्रस्त ही नज़र आ रहा है। शासकीय शालाओं के शिक्षकों को चुनाव, परिवार नियोजन, मेपिंग फीडिंग आदि बेगार के कामों में उलझा दिया गया था, जिससे वहाँ की पढ़ायी प्रभावित हुए बिना नहीं है। शासकीय शालाओं में शिक्षकों का ध्यान अब पढ़ायी की ओर पूर्व की तरह नहीं रह गया है। यह सब कुछ शासन-प्रशासन बखूबी जानता है। शासकीय स्तर पर निज़ि शिक्षण संस्थानों के लिये न जाने कितने दिशा-निर्देश जारी होते हैं, पर उनमें से कितनों का पालन हो पाता है, यह बात भी सभी के सामने है।
हर साल दसवीं और बारहवीं के परीक्षा परिणाम आने के बाद सरकारी और निज़ि शिक्षण संस्थान तो मौन रहते हैं पर निज़ि स्तर पर कोचिंग के संचालकों द्वारा बच्चों के अच्छे प्रतिशत आने पर इसका श्रेय बटोरा जाता है। शिक्षण संस्थानों की इस मामले में चुप्पी आश्चर्यजनक ही मानी जा सकती है। वैसे वे चुप इसलिये हैं क्योंकि इस बात को वे बेहतर जानते हैं कि पालक आखिर बचकर जायेगा कहाँ? एक नहीं तो दूसरी संस्था में तो दाखिला करवायेगा ही।

यक्ष प्रश्न तो यह है कि निज़ि कोचिंग के संचालकों द्वारा श्रेय लेने की जो कवायद की गयी उस पर न तो सांसद-विधायक ही चिंतित नज़र आ रहे हैं और न ही प्रशासन ने ही संज्ञान लेता दिखता है। इसका कारण यह है कि निज़ि शिक्षण संस्थानों में अभिभावकों द्वारा मोटी फीस देकर बच्चों को पढ़ाया जाता है, फिर क्या वजह है कि शाला की बजाय बच्चा किसी निज़ि कोचिंग में जाने की जिद करता है। जाहिर है कि निज़ि शिक्षण संस्थानों में अनुभवी शिक्षकों का टोटा है? अगर नहीं तो क्या वहाँ पढ़ायी का स्तर बेहद कमजोर है?

जिला प्रशासन को चाहिये कि इस मामले में संज्ञान अवश्य ले। अगर किसी संस्था में कोई बच्चा अध्ययन कर रहा है तो कम से कम उस संस्था के शिक्षक पर तो कोचिंग पढ़ाने पर पाबंदी लगनी ही चाहिये। एक बात समझ से परे है कि शाला में चालीस बच्चों के बीच जो शिक्षक बच्चों को विषय समझाने में असफल रहता है वह निज़ि तौर पर कोचिंग के दौरान चालीस मिनिट में ही उस विषय में बच्चे को पारंगत कैसे बना देता है, मतलब साफ है कि शिक्षा को दुकान बनाने का अभियान परवान चढ़ रहा है।

अगर ऐसा नहीं किया जा सकता है तो बेहतर होगा कि जिले के विधायक निज़ि कोचिंग संस्थानों को ही शिक्षण संस्थान का दर्जा दिये जाने की बात विधान सभा में गुंजायमान करें, ताकि कम से कम अभिभावक तो कई दृष्टिकोणों से लुटने से बच सकें। विडंबना यही है कि सांसद-विधायक भी शिक्षा के मामलों में विधान सभा और संसद में मौन ही रहने में भलाई समझते हैं, जिससे शिक्षा का स्तर गिरना स्वाभाविक ही है।

46 thoughts on “कोचिंग क्लासेस़ को दे दें शालाओं का दर्जा!

  1. Hey There. I found your blog using msn. This is an extremely well written article.
    I’ll make sure to bookmark it and come back to read more of your useful
    info. Thanks for the post. I’ll certainly comeback.

  2. Hi there, just became alert to your blog through Google,
    and found that it’s truly informative. I am going to watch
    out for brussels. I’ll appreciate if you continue this in future.
    Lots of people will be benefited from your writing. Cheers!

  3. Pretty element of content. I just stumbled upon your blog and in accession capital to
    claim that I acquire in fact loved account your weblog posts.
    Any way I will be subscribing to your feeds and even I success you access persistently quickly.

  4. Undeniably imagine that that you stated. Your favorite justification seemed to be at the web the simplest
    factor to consider of. I say to you, I definitely get irked at the same time
    as folks think about issues that they plainly do not understand about.
    You managed to hit the nail upon the highest and outlined out the whole thing without having side effect
    , other people can take a signal. Will probably be again to get more.
    Thank you

  5. Nice post. I learn something new and challenging on blogs I
    stumbleupon every day. It’s always useful to read through
    articles from other authors and use something from their
    web sites.

  6. Fantastic beat ! I would like to apprentice whilst you amend your web site, how can i subscribe for a weblog web site?
    The account aided me a acceptable deal. I had been a little bit familiar of
    this your broadcast offered vivid transparent idea

  7. Thanks on your marvelous posting! I seriously enjoyed reading it, you
    will be a great author. I will always bookmark your blog and will come back sometime soon.
    I want to encourage that you continue your great work, have
    a nice morning!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *