हरकत में आयी पुलिस, की स्कूल बसों की चैकिंग

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। इंदौर में हुए डीपीएस बस हादसे के बाद सिवनी में पुलिस भी हरकत में आ गयी है। यातायात पुलिस के द्वारा जिला मुख्यालय में संचालित शालाओं की स्कूल बसों की जाँच की कार्यवाही को ब्रहस्पतिवार को अंजाम दिया गया।

यातायात प्रभारी कमलेश चौरिया ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि जिला पुलिस अधीक्षक तरूण नायक एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खाण्डेय के निर्देश के अनुसार यातायात पुलिस के द्वारा ब्रहस्पतिवार को उदय पब्लिक स्कूल, महर्षि विद्या मंदिर एवं सेंट फ्रांसिस ऑफ एसिसी स्कूल के शालेय परिवहन में लगीं बसों का निरीक्षण किया गया।

उन्होंने बताया कि इस बस में मुख्य रूप से फर्स्ट एड बॉक्स, अग्निशमन यंत्र, सीसीटीवी कैमरे, जीपीएस, स्पीड गर्वनर एवं बस चालकों के ड्राईविंग लाईसेंस की जाँच की जाकर चालकों का चिकित्सकीय परीक्षण कराया जाकर प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये। इसके साथ ही साथ बस में आने-जाने वाले विद्यार्थियों की जानकारी से संबंधित पंजी संधारित करने एवं माननीय सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा दिये गये निर्देशों का कड़ाई से पालन किये जाने के निर्देश दिये गये।

ये हैं निर्देश

स्कूल बस पीले रंग में होना चाहिये। स्कूल बसों के आगे एवं पीछे स्कूल बस लिखा होना चाहिये। अनुबंधित स्कूल बस पर ऑन स्कूल ड्यूटी लेख होना चाहिये। स्कूलबस में फर्स्ट एड बॉक्स अनिवार्यतः होना चाहिये। स्कूल बस की खिड़कियों में होरिजेन्टल ग्रिल लगी होनी चाहिये।

इसी तरह स्कूल बस में अग्निशमन यंत्र अनिवार्यतः होना चाहिये। स्कूल बस पर स्कूल का नाम तथा टेलीफोन नम्बर लेख होना चाहिये। स्कूल बस के दरवाजों में लॉकिंग प्रणाली विश्वसनीय एवं सही दशा में होनी चाहिये। स्कूल बस में स्कूल बैग रखने हेतु सीटों के नीचे पर्याप्त स्थान होना चाहिये तथा स्कूल बैग बस के बाहर या ऊपर नहीं रखे जाने चाहिये।

स्कूल बस में उसी स्कूल का एक योग्य एवं प्रशिक्षित कर्मचारी (परिचालक) अनिवार्यतः होना चाहिये। स्कूल बस में स्पीड गर्वनर अनिवार्यतः लगा होना चाहिये, जिसमें अधिकतम गति सीमा 40 किलोमीटर प्रतिघण्टा निर्धारित होना चाहिये। स्कूल बस में किसी भी शिक्षक अथवा पालक को बस में सुरक्षा जाँच करने की दृष्टि से जाने की सुविधा होना चाहिये।

इसके साथ ही स्कूल बस चालक के पास कम से कम पाँच वर्ष पुराना भारी मोटरयान चलाने का लाईसेंस होना चाहिये तथा चालक को हल्की नीली शर्ट व पेंट एवं काले जूते तथा शर्ट पर नेम प्लेट धारण करना अनिवार्य होना चाहिये। स्कूल बस में ऐसे चालक जिनका वर्ष में एक बार भी अत्यधिक गति से वाहन चलाने, खतरनाक तरीके से वाहन चलाने या नशे की अवस्था में वाहन चलाने के अपराध में चालान किया गया हो, तो ऐसे चालक को कार्य पर नहीं रखा जाये।

स्कूल बस में मध्य प्रदेश शासन द्वारा विद्यार्थियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने हेतु, जीपीएस एवं सीसीटीवी कैमरे लगाये जाना अनिवार्य है। स्कूल बस में महिला सहायक की उपस्थिति अनिवार्य होना चाहिये। यदि छात्रों की आयु 12 वर्ष से कम है, तो स्कूल बस में बैठक क्षमता के डेढ़ गुना से अधिक छात्र नहीं बैठने चाहिये।

12 वर्ष से अधिक आयु के छात्र को एक व्यक्ति के रूप में मानना चाहिये। स्कूल बस चालक के पास समस्त छात्र – छात्राओं की सूची नाम, कक्षा, निवास पता, ब्लड ग्रुप तथा बस का रूट प्लान, रूकने का स्थान आदि की जानकारी उपलब्ध होना चाहिये। किन्डर गार्डन के बच्चों के हॉल्टिंग पॉईंट पर परिजन या नियुक्त व्यक्ति के उपस्थित न होने की दशा में बच्चे को स्कूल वापस ले जाकर परिजनों को सूचित करना चाहिये।

स्कूल कैब की बॉडी हाईवे पीले रंग से पेंट होकर मध्य में 150 मिलीमीटर चौड़ाई की हरी आड़ी पेंट की पट्टी बस के चारों तरफ होकर चारों तरफ स्कूल कैब लिखा होना चाहिये।



32 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *