हेलीकाप्टर के बाद इन्हें चाहिए मंत्रालय में कमरा!

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। नर्मदा न्यास मंडल के अध्यक्ष कंप्यूटर बाबा ने राज्य सरकार से हेलिकॉप्टर के बाद अब मंत्रालय में कक्ष आवंटन की मांग कर डाली है।

इसके साथ ही उन्होंने नदी की निगरानी के लिए ड्रोन कैमरा उपलब्ध कराने की भी मांग की है। इसके पीछे उनका तर्क है कि वे इससे अवैध रेत उत्खनन पर नजर रख सकेंगे। नर्मदा न्याय मंडल के अध्यक्ष ने अध्यात्म विभाग के मंत्री पीसी शर्मा को कक्ष आवंटित करने के लिए पत्र लिखा है।

शर्मा ने कंप्यूटर बाबा के इस पत्र के संदर्भ में सोमवार को सामान्य प्रशासन विभाग को नोटशीट लिखी है, जिसमें कंप्यूटर बाबा के लिए मंत्रालय में कक्ष आवंटित किए जाने को कहा गया है। इसकी पुष्टि विभागीय मंत्री पीसी शर्मा ने भी की है। उन्होंने कहा है कि बाबा ने अवैध रेत उत्खनन रोकने के लिए जिन संसाधनों को उपलब्ध कराने की बात कही है, वे सभी उपलब्ध कराए जाने पर भी विचार किया जाएगा।

जब कंप्यूटर बाबा से मीडिया ने पूछा कि उन्हें तो नर्मदा न्यास मंडल का अध्यक्ष नर्मदा नदी के संरक्षण को लेकर उपाय सुझाने के लिए बनाया गया है तो आप अवैध रेत खनन रोकने कैसे मैदान में आ गए। इस पर उन्होंने कहा कि वे जल्दी ही नर्मदा, शिप्रा और मंदाकनी के संरक्षण को लेकर सुझाव सरकार को सौंपेंगे। अवैध रेत उत्खनन भी कैसे देख सकते हैं, वह भी तो जीवनदायिनी नदी की धारा को प्रभावित कर रहा है।

कंप्यूटर बाबा से नर्मदा के अलावा गंगा के संरक्षण को लेकर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सुझाव सौंपने पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि पहले तो मेरा लक्ष्य मध्यप्रदेश में नर्मदा, शिप्रा और मंदाकनी के संरक्षण का है। इसके बाद बाद आगे सोचूंगा। उन्होंने कहा कि वे जल्दी ही खरगौन से नर्मदा के संरक्षण को लेकर यात्रा शुरू करेंगे।

हाल ही में कंप्यूटर बाबा ने नर्मदा नदी के किनारे जिन स्थानों पर अवैध रेत खनन हो रहा था, वहां औचक निरीक्षण किया था। इसके बाद हरकत में आई सरकार ने उन्हें समझाइश भी दी थी कि वे अपना काम सुझाव देने तक ही सीमित रखें। इससे पहले कंप्यूटर बाबा ने लोकसभा चुनाव के दौरान खुलकर भोपाल से चुनाव लड़े पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का प्रचार किया था और उनकी जीत की भविष्यवाणी की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *