किराये के लाईसेंस पर चल रहे मेडिकल स्टोर्स!

 

 

 

स्वास्थ्य विभाग ने फेरीं जिम्मेदारियों की ओर से आँखें

(ब्यूरो कार्यालय)

घंसौर (साई)। स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों की कथित अनदेखी के चलते आदिवासी बाहुल्य घंसौर तहसील में संचालित होने वाले अधिकांश मेडिकल स्टोर्स किसी और के नाम पर हैं पर इनका संचालन कोई और ही कर रहा है।

स्वास्थ्य विभाग से जुड़े सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि घंसौर शहर में एक दर्जन से ज्यादा मेडिकल स्टोर्स संचालित हो रहे हैं। इनमें क्वॉलिफाईड पर्सन कोई और है और दुकान का संचालन कोई और कर रहा है। स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारी अगर औचक निरीक्षण कर लें तो उन्हें दुकान में क्वॉलिफाईड पर्सन नहीं मिलेंगे।

लोगों का कहना है कि किराना दुकानों की तर्ज पर घंसौर क्षेत्र में मेडिकल स्टोर्स का संचालन किया जा रहा है। इधर, सूत्रों का कहना है कि मेडिकल स्टोर्स के संचालन के लिये क्वॉलिफाईड पर्सन (जिसके नाम से दुकान का लाईसेंस होता है) का दुकान में मौजद रहना इसलिये आवश्यक है क्योंकि अगर गलत दवा दे दी जाये तो लेने के देने भी पड़ सकते हैं।

सूत्रों ने कहा कि बिना वैध डिग्री डिप्लोमा के चल रहे मेडिकल स्टोर्स के संचालकों के द्वारा मरीज़ों की सेहत के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। सूत्रों ने कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा प्रतिबंधित दवाओं का विक्रय भी इन मेडिकल स्टोर्स से धड़ल्ले से किया जा रहा है।

कहा जा रहा है कि भोले भाले ग्रामीणों को इन मेडिकल स्टोर्स के संचालकों के द्वारा कई बार तो एक्सपायरी डेट की दवाएं भी थमा दी जाती हैं। इतना ही नहीं दवा निरीक्षक के द्वारा शायद ही कभी इन दवा दुकानों का निरीक्षण किया गया हो। मेडिकल स्टोर्स में धूल की परत भी साफ दिखायी देती है जिसे नियमों का खुला उल्लंघन माना जा सकता है।

सूत्रों ने आगे बताया कि दुकान के संचालकों के द्वारा ग्राहकों को पक्का बिल देने में भी आनाकानी की जाती है। वे सिर्फ दवा के दाम जोड़कर ग्राहकों से पैसे वसूल कर रहे हैं, जबकि जबसे जीएसटी लागू हुआ है उसके बाद से प्रत्येक स्थानों पर दवाओं के पक्के बिल दिये जा रहे हैं।

243 thoughts on “किराये के लाईसेंस पर चल रहे मेडिकल स्टोर्स!

  1. Although ED is non an inevitable outcome of aging, at that place
    is a positivist correlational statistics with old age.
    The prevalence of 5.1% in 20- to 39-year-sure-enough work force increases to 70.2% in work force 70 geezerhood of
    years and elderly. Because the etiology of ED often involves a combining of vascular, neurological, endocrinological,
    and science factors, the experimental condition is not express to elderly manpower.
    Former risk of infection factors so much as vessel disease, hypertension, diabetes, hypercholesterolemia, and smoke get been powerfully
    connected with an increased preponderance of ED https://www.lm360.us/

  2. Definitely believe that which you said. Your favorite
    reason seemed to be on the web the easiest thing to be aware of.
    I say to you, I definitely get irked while people
    think about worries that they plainly don’t know about.
    You managed to hit the nail upon the top
    and defined out the whole thing without having side-effects ,
    people could take a signal. Will probably be back to get more.
    Thanks http://grassfed.us/

  3. I love your blog.. very nice colors & theme. Did you create this website yourself or did you hire someone to do it for you? Plz reply as I’m looking to design my own blog and would like to find out where u got this from. appreciate it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *